जहाँ इतने बलात्कार होते हों, अपहरण होते हों, हत्याएँ होती हो, दंगे होते हों इसे आप काम कहेंगे या कारनामें कहेंगे

Posted on 27 May 2017 by Admin     
जहाँ इतने बलात्कार होते हों, अपहरण होते हों, हत्याएँ होती हो, दंगे होते हों इसे आप काम कहेंगे या कारनामें कहेंगे

कल जो हालत थी मेरे सूबे की, उससे बदतर तो आज है बाबू।
अब सपा का तो कोई दोष नहीं, आपके सर पे ताज है बाबू।।
~इमरान प्रतापगढ़ी

चुनाव प्रचार के दौरान मोदी जी ने कहा था "जहाँ हर दिन इतने बलात्कार होते हों, अपहरण होते हों, निर्दोषों की हत्याएँ होती हो, दंगे होते हों इसे आप अखिलेश जी के काम कहेंगे या समाजवादियों के कारनामें कहेंगे" अगर मोदी जी के तब कहे शब्दों को उत्तर प्रदेश की आज की स्थिति के हिसाब से लिखा जाए तो शब्द कुछ यूँ होंगे "जहाँ हर दिन इतने बलात्कार होते हों, अपहरण होते हों, निर्दोषों की हत्याएँ होती हो, दंगे होते हों इसे आप काम कहेंगे या कारनामें कहेंगे"

पिछले साल के मुकाबले अपराधों के ग्राफ में ताबड़तोड़ बढ़ोत्तरी हुई है। लूट, डकैती, हत्या और बलात्कार के चौंका देने वाले आँकड़े सामने आए हैं। थानों में पुलिस कर्मियों से मारपीट के वायरल होते वीडियों। सहारनपुर में दो गुटों के बीच खूनी झड़प। जहाँ तहाँ एक विशेष पार्टी के और रंग विशेष का गमछा धारण किए लोगों की गुंडागर्दी। हाइवे पर गैंगरेप की वारदात। स्थिति ये है कि लगता ही नहीं सूबे में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज़ बाकि रह गई हो।

दो महीने पहले योगी आदित्यनाथ जी के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही जिस तरह से वो 24 घंटों मीडिया पर छाये हुए थे। उनके फैसले, उनके बयान और यहाँ तक की खान-पान, रहन-सहन तक की खबरे मीडिया की सुर्खियाँ बना करती थी लगने लगा था जैसे उत्तर प्रदेश में "योगी मैजिक" सिर चढ़कर बोल रहा है और ये भगवाधारी मुख्यमंत्री पलक झपकते ही पूरे उत्तर प्रदेश का कायाकल्प कर के रख देगा। और चुनाव पूर्व किए गए अपने वादे के मुताबिक भाजपा की सरकार अपराधियों को उत्तर प्रदेश से खदेड़ कर ही दम लेगी।

पर जैसे जैसे दिन बीते हफ्ते बीते वैसे वैसे हर रोज़ अपराध की नई नई खबरें योगी मैजिक पर हावी होती चली गई हत्या लूट डकैती बलात्कार गैंगरेप जैसी गंभीर वारदातों ने दो महीने के भीतर ही अपराध मुक्त उत्तर प्रदेश के दावों की हवा निकाल कर रख दी। पिछले एक महीने (15 मार्च से 15 अप्रैल) के भीतर ही 20 डकैती, 273 लूट, 240 हत्याएँ, 179 बलात्कार (सोर्स ABP न्यूज़) वारदातें हो चुकी थी और अभी पूरा का पूरा कार्यकाल बाकि है।

चुनाव प्रचार के दौरान पीएम मोदी जी ने अपने लगभग हर भाषण मे उत्तर प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था पर तीखा प्रहार किया था उन्होंने प्रचार के दौरान अपने एक भाषण में कहा था "हर दिन इतने बलात्कार होते हों, अपहरण होते हों, निर्दोषों की हत्याएँ होती हो, दंगे होते हों इसे आप अखिलेश जी के काम कहेंगे या समाजवादियों के कारनामें कहेंगे" जबकि सत्ता में आने के बाद स्थितियाँ यें है कि कानून व्यवस्था समाजवादी सरकार से भी बदतर स्थिति में पहुँच चुकी है पर अब किसी को कारनामें नहीं दिखाई देंगे क्योंकि अब वहाँ सत्ता में वो लोग खुद आ चुके हैं जो कारनामें देखा और गिना करते थे। जिस सूबे ने दिल खोलकर भाजपा की झोली भरी 72 सांसद दिए, प्रधानमंत्री दिया यहाँ तक की राज्य की सत्ता तक सौंप दी वो सूबा आज कानून व्यस्था के नाम पर सबसे बूरे दौर से गुज़र रहा है और सत्ताधारी दल लखनऊ से दिल्ली तक केंद्र सरकार के तीन साल पूरे होने का जश्न मनाने में मशगूल है।

Islahuddin Ansari



Like us on Facebook